Stories for Kids in Hindi: गाय और बाघ

The Cow and the Tiger
The Cow and the Tiger

हम सभी को ज्ञात है कि अनुशासन हमारे जीवन के लिए कितना आवश्यक है। इससे सम्बंधित एक बोध कथा अनुशासन से लक्ष्य की प्राप्ति पढ़ते हैं। इस ब्लॉग मेंहमारे पास Motivational bodh katha in hindi में नैतिक कहानियों (Best Hindi Stories) की एक सूची है और हम आपको बताते हैं कि नैतिक हिंदी कहानियाँ जो जीवन के मार्गदर्शन करने वाली आध्यात्मिक और नैतिक कथाएं पढ़ें। 

गाय और बाघ

एक पहाड़ी के नीचे रामगढ़ नाम का एक गांव था। गांव के सारे जानवर हरी घास खाने के लिए सुबह उसी पहाड़ी के ऊपर बसे जंगल में जाते और शाम होते-होते घर वापस आ जाते थे। हर दिन की तरह लक्ष्मी नाम की एक गाय अन्य गायों के साथ उसी पहाड़ी के जंगल में घास खाने के लिए गई थी। वह हरी घास खाने में इतनी अधिक प्रसन्न थी कि वह कब एक शेर की गुफा के पास पहुंच गई, उसे पता भी नहीं चला। शेर अपनी गुफा में सो रहा था और वह पिछले दो दिनों से भूखा भी था। जैसे ही लक्ष्मी शेर की गुफा के पास पहुँची, गाय की खुशबू से शेर की नींद खुल गयी।

वह शेर धीरे-धीरे गुफा से बाहर आया और गुफा के बाहर गाय देखकर खुश हो गया शेर ने मन ही मन सोचा कि आज उसकी दो दिनों की भूख मिट जाएगी। वह इस स्वस्थ गाय का ताजा मांस खाएगा और यह सोचकर उसने एक तेज दहाड़ लगायी। लक्ष्मी शेर की दहाड़ सुनकर डर जाती है। जब वह अपने आस-पास देखती है, तो वहां दूर- दूर तक उसको कोई भी दूसरी गायें नहीं दिखीं।

जब वह हिम्मत करके पीछे मुड़ी, तो उसे सामने शेर खड़ा हुआ दिखाई दिया। उस शेर ने लक्ष्मी को देखकर फिर से दहाड़ लगायी और लक्ष्मी से कहा, ‘मुझे दो दिनों से कोई शिकार नहीं मिल रहा था, भूखा था। शायद इसलिए भगवान ने मेरा पेट भरने के लिए तुझे मेरे यहां पर भेजा है। आज मैं तुझे खाकर अपनी भूख मिटा लूंगा।’

शेर की बात सुनकर लक्ष्मी डर जाती है। वह रोते हुए शेर से कहती है, ‘मुझे जाने दो, मुझे मत खाओ। मेरा एक छोटा बच्चा है, जो अभी सिर्फ मेरा ही दूध पीता है और उसे घास खाना अभी तक नहीं आया है।’ लक्ष्मी की बात सुनकर शेर हंसते हुए कहता है, ‘तो क्या मैं अपने हाथ में आए शिकार को ऐसे ही जाने दूं ? मैं तो आज तुझे खाकर अपनी दो दिनों की भूख मिटाऊंगा।’

शेर के ऐसा कहने पर लक्ष्मी उसके सामने रोने लगी और विनती करते हुए कहती है कि ‘आज मुझे जाने दो। मैं आज अपने बछड़े को आखिरी बार दूध पिला दूंगी और उसे बहुत सारा प्यार करके, कल सुबह होते ही तुम्हारे पास आ जाऊंगी। फिर तुम मुझे खा लेना और अपना भूखा पेट भर लेना।’

शेर लक्ष्मी की यह बात मान जाता है और धमकी देते हुए कहता है कि, ‘अगर कल तू नहीं आई, तो मैं तेरे गांव आऊंगा, फिर तुझे और तेरे बेटे दोनों को खा जाऊंगा।’

लक्ष्मी शेर की यह बात सुनकर खुश हो जाती है और शेर को अपना वचन देकर गांव वापस चली जाती है। वहां से वह सीधे अपने बछड़े के पास जाती है। उसे दूध पिलाती है और बहुत सारा प्यार करती है । फिर बछड़े को शेर के साथ सारी घटना बताती है और कहती है कि उसे अब अपना ख्याल स्वयं रखना होगा। वह कल सुबह होते ही अपना वचन पूरा करने के लिए शेर के पास चली जाएगी।

अपनी मां की बातें सुनकर बछड़ा रोने लगता है। दूसरे दिन सुबह होते ही लक्ष्मी जंगल की तरफ निकल जाती है और शेर की गुफा के सामने पहुंचकर शेर से कहती है, ‘अपने वचन के अनुसार मैं तुम्हारे पास आ गई हूँ। अब तुम मुझे खा सकते हो।’

गाय की आवाज सुनकर शेर अपनी गुफा से बाहर निकलकर आता है और भगवान के अवतार में प्रकट होते हैं। वह लक्ष्मी से कहते हैं, ‘मैं तो बस तुम्हारी परीक्षा ले रहा था। तुम अपने वचन की पक्की हो। मैं इससे बहुत प्रसन्न हुआ। तुम अब अपने घर और बछड़े के पास वापस जा सकती हो।’

कहानी से सीख :– हमें जान की बाजी लगाते हुए भी अपने दिए हुए वचन को पूरा करना चाहिए। यही हमारे दृढ़ व्यक्तित्व को दर्शाता है।

Read This Too: 33 Bodh Katha | हिंदी बोध कथा | Moral Stories in Hindi

Best Top Moral Stories in Hindi | Hindi Moral Stories for Kids | Short Stories with Moral 

इस वेबसाइट में हमने bodh katha in hindi का संकलन किया हुआ हैबच्चों को bodh katha moral story in hindi ज़रूर पढ़नी चाहिएँआपके लिए bodh katha in hindi with moral, bodh katha in hindi small, को जब आपपढ़ते हैं तो ज़िन्दगी में आपको बहुत सारी शिक्षा मिलती है.

Sudhbudh.com

इस वेबसाइट में ज्ञान का खजाना है जो अधिकांश ज्ञान और जानकारी प्रदान करता है जो किसी व्यक्ति के लिए खुद को सही ढंग से समझने और उनके आसपास की दुनिया को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। जीवन के बारे में आपको जो कुछ भी जानने की जरूरत है वह इस वेबसाइट में है, लगभग सब कुछ।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *