भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों में लॉकर को लेकर नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। नए बैंक लॉकर नियम 1 जनवरी, 2022 से प्रभावी होंगे।

New Bank Safe Deposit Locker Rules From 1 January 2022 By RBI

अगर आप अपना कीमती सामान और कीमती सामान बैंक के लॉकर में रखते हैं तो इस खबर को ध्यान से पढ़ें। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने लॉकर को लेकर नियमों में बदलाव किया है। इन बदलावों का सीधा असर उन ग्राहकों पर पड़ेगा जो लॉकर का इस्तेमाल करते हैं। आरबीआई के नए नियम अगले साल यानी 1 जनवरी 2022 से लागू होंगे। आइए आपको बताते हैं कि ये नए नियम क्या हैं और इनका आप पर क्या असर होगा।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों में लॉकर को लेकर नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। नए बैंक लॉकर नियम 1 जनवरी, 2022 से प्रभावी होंगे।

आरबीआई की नई गाइडलाइंस के मुताबिक बैंकों को अपने बोर्ड से मंजूर पॉलिसी लागू करनी होगी, जो लापरवाही के चलते लॉकर में रखे सामान के लिए उनकी देनदारी तय कर सके। नियमों के अनुसार प्राकृतिक आपदा या ‘एक्ट ऑफ गॉड’ यानी भूकंप, बाढ़, बिजली, तूफान और तूफान के मामले में किसी भी नुकसान के लिए बैंक जिम्मेदार नहीं होगा।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि बैंक अपनी जिम्मेदारियों से मुक्त है। बैंकों को अपने परिसरों को ऐसी आपदाओं से बचाने के लिए समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करनी होगी। इसके अलावा, बैंक उस स्थान की सुरक्षा के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार होगा जहां सुरक्षित जमा लॉकर स्थित हैं। रिजर्व बैंक के नए नियमों के अनुसार, बैंक कर्मचारियों द्वारा आग, चोरी, भवन ढहने या धोखाधड़ी की स्थिति में बैंकों की देनदारी उनके वार्षिक किराए के 100 गुना तक सीमित होगी।

एक जनवरी 2022 से बैंक लॉकर में चोरी, धोखाधड़ी, आग या अन्य नुकसान की स्थिति में ग्राहक को सालाना शुल्क का 100 गुना तक भुगतान किया जाएगा

इसके अलावा, यदि ग्राहक द्वारा लगातार तीन वर्षों से लॉकर किराए का भुगतान नहीं किया गया है, तो बैंक कार्रवाई कर सकता है और उचित प्रक्रिया के बाद किसी भी लॉकर को खोल सकता है। इतना ही नहीं रिजर्व बैंक के नए नियमों के मुताबिक बैंकों को लॉकर एग्रीमेंट में एक प्रावधान शामिल करना होगा, जिसके तहत लॉकर किराए पर लेने वाले ग्राहक को लॉकर में कोई भी अवैध या खतरनाक सामान रखने की इजाजत नहीं होगी.

इन परिस्थितियों में नहीं मिलेगा मुआवजा

ध्यान रहे कि अगर लॉकर में रखी सामग्री को नुकसान कस्टमर की गलती से होगा तो उसका जिम्मेदार बैंक नहीं होगा।

इसके अतिरिक्त किसी प्रकार की प्राकृतिक आपदा यानी भूकंप, बाढ़, तूफान या आसमानी बिजली गिरने से नुकसान होने पर बैंक मुआवजा नहीं देंगे।

रिजर्व बैंक के नए नियमों के मुताबिक बैंकों को लॉकर परिचालन के एसएमएस और ई-मेल ग्राहकों को भेजने होंगे। लॉकर आवंटन के लिए सभी आवेदनों की रसीद बैंकों को देनी होगी। लॉकर उपलब्ध नहीं होने पर बैंकों को उपभोक्ताओं को वेटिंग लिस्ट नंबर देना होगा। शाखाओं के अनुसार लॉकर आवंटन की जानकारी और बैंकों की प्रतीक्षा सूची को कोर बैंकिंग सिस्टम (सीबीएस) या किसी अन्य कम्प्यूटरीकृत प्रणाली से जोड़ा जाएगा जो साइबर सुरक्षा ढांचे के अनुकूल हो।

बैंक ग्राहकों को सूचना देने के बाद ही लॉकर को एक जगह से दूसरी जगह ले जा सकेंगे. सावधि जमा का उपयोग लॉकर किराये के रूप में किया जा सकता है। बैंक को स्ट्रांग रूम/वॉल्ट की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाने होंगे। प्रवेश और निकास के सीसीटीवी फुटेज कम से कम 180 दिनों के लिए रखे जाने चाहिए।

 

# Topics bank locker rules,locker rules in banks,new bank locker rules,bank locker rules in hindi,locker in bank rules,new rules for lockers,locker facility banks,new bank rules 2021,new bank banker rules

Sudhbudh.com

इस वेबसाइट में ज्ञान का खजाना है जो अधिकांश ज्ञान और जानकारी प्रदान करता है जो किसी व्यक्ति के लिए खुद को सही ढंग से समझने और उनके आसपास की दुनिया को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। जीवन के बारे में आपको जो कुछ भी जानने की जरूरत है वह इस वेबसाइट में है, लगभग सब कुछ।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *