रास बिहारी बोस : महानतम भारतीय क्रांतिकारी | Rash Behari Bose

महानतम भारतीय क्रांतिकारी: रास बिहारी बोस  | Rash Behari Bose Biography 

रास बिहारी बोस का जन्म 25 मई, 1886 को एक बंगाली कायस्थ परिवार में सुबलदहा गाँव में हुआ था, जो उस समय ब्रिटिश भारत के बंगाल प्रेसीडेंसी (वर्तमान में पूर्व बर्धमान जिला, पश्चिम बंगाल के रूप में जाना जाता था) का एक हिस्सा था। पिता बिनोद बिहारी बोस और माता भुवनेश्वरी देवी के घर जन्मे, उन्होंने कम उम्र में ही ब्रिटिश सत्ता के खिलाफ क्रांतिकारी आंदोलनों में आकर्षण और रुचि विकसित कर ली थी। वह क्रांतिकारियों के युगांतर समूह के एक सक्रिय सदस्य थे, जिसका नेतृत्व जतिन मुखर्जी ने किया था। बाद में, उन्होंने संयुक्त प्रांत (अब उत्तर प्रदेश) और पंजाब के आर्य समाज के क्रांतिकारियों से संपर्क किया।

ras bihari bose
Rash Behari Bose 

इसके अलावा, वर्ष 1912 में, रास बिहारी बोस ने अन्य नेताओं के साथ मिलकर उस समय भारत के वायसराय लॉर्ड चार्ल्स हार्डिंग को मारने की साजिश रची, हालांकि ऐसा करने में असफल रहे। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, वह ग़दर क्रांति के एक प्रमुख सदस्य थे, जिसका उद्देश्य फरवरी 1915 में भारत में विद्रोह को भड़काना था। उसी वर्ष, बोस ने रवींद्रनाथ ठाकुर के चचेरे भाई प्रियनाथ ठाकुर की आड़ में जापान की यात्रा की और अपनी अविश्वसनीय छलावरण क्षमताओं के कारण औपनिवेशिक अधिकारियों द्वारा पकड़े नहीं गए।

रास बिहारी बोस ने ए एम नायर के साथ मिलकर जापानी सरकार को भारतीय राष्ट्रवादियों के साथ खड़े होने के लिए राजी करने और अंततः विदेशों में भारतीय स्वतंत्रता के लिए सार्वजनिक रूप से सहायता करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 28-30 मार्च, 1942 को बोस ने टोक्यो में एक सम्मेलन का आयोजन किया जिसमें इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की स्थापना का संकल्प लिया गया। 22 जून, 1942 को, उन्होंने बैंकॉक में लीग की दूसरी बैठक बुलाई, जहां सुभाष चंद्र बोस को लीग में शामिल होने और इसके अध्यक्ष के रूप में नेतृत्व लेने के लिए आमंत्रित करने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया गया था।

इसके अलावा, 1 सितंबर, 1942 को, इंडियन नेशनल लीग की सैन्य शाखा, रास बिहारी बोस की इंडियन नेशनल लीग, बनाई गई थी। उन्होंने आजाद हिंद आंदोलन के बैनर को चुना और सुभाष चंद्र बोस को दे दिया। 21 जनवरी, 1945 को जापान के टोक्यो में उनका निधन हो गया। उनकी मृत्यु से पहले जापानी सरकार ने उन्हें ‘ऑर्डर ऑफ द राइजिंग सन’ से सम्मानित किया था।

Rash Behari Bose Short Biography 

रास बिहारी बोस : बंगाल का यह वीर बचपन से ही क्रातिकारी विचारों वाला था। रास बिहारी बोस जबतब घर से भाग जाया करता था। आखिर एक दिन पिता ने पूछ ही लियारासू, आखिर तुम क्या चाहते हो। रास बिहारी ने कह दिया-‘पिताजी मैं युद्ध कला सीखना चाहता हूं ताकि अंग्रेजों को अपने प्यारे देश भारतवर्ष से भगा सकू। पिता उसके फैसले को सुन कर सन्न रह गए। रास बिहारी घर छोड़कर देहरादून पहुंच गए।

वहां एक बंगाली परिवार के विवाह में उनकी भेंट क्रांतिकारी जितेन्द्र मोहन चटर्जी से हुई। दोनों का परिचय प्रगाढ़ मित्रता में बदल गया क्योंकि दोनों एक ही पथ के पथिक थे। इसी क्रम में वह चन्द्र नगर गए। वहां से वह एक नवयुवक वसन्तकुमार विश्वास को साथ लेते आए। फिर वाइसराय लार्ड हार्डिंग्ज की सवारी पर बम फेंकने की योजना बनी। जैसे ही वाइसराय की सवारी चांदनी चौक पहुंची, विश्वास ने बम विस्फोट कर दिया।

बम हाथी के हौदे के बाहर नौकर के ऊपर गिरा, जो वही ढेर हो गया। वाइसराय बच गया। फिर रास बिहारी जापान चले गए, जहां उन्होंने आजाद हिन्द फौज का गठन किया। बाद मे जब नेता जी सुभाषचन्द्र बोस वहां पहुंचे तो बड़े बोस ने छोटे बोस को यह कहते हुए आजाद हिन्द फौज की कमान सौंप दी किअब मैं बूढ़ा हो चला हूं, ‘अतः अब तुम ही इसे संभालो।नेताजी ने उनका आदेश शिरोधार्य किया और आजाद हिन्द फौज की कमान संभाल ली।

कुछ त्रुटि हो तो कमेंट में ज़रूर लिखें जीवनी अच्छी लगी हो तो शेयर ज़रूर करें। 

Sudhbudh.com

इस वेबसाइट में ज्ञान का खजाना है जो अधिकांश ज्ञान और जानकारी प्रदान करता है जो किसी व्यक्ति के लिए खुद को सही ढंग से समझने और उनके आसपास की दुनिया को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। जीवन के बारे में आपको जो कुछ भी जानने की जरूरत है वह इस वेबसाइट में है, लगभग सब कुछ।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *